“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

Mata Vaishno Devi


वैष्णो देवी उत्तरी भारत के सबसे पूजनीय और पवित्र स्थलों में से एक है। यह मंदिर पहाड़ पर स्थित होने के कारण अपनी भव्यता व सुंदरता के कारण भी प्रसिद्ध है। वैष्णो देवी भी ऐसे ही स्थानों में एक है जिसे माता का निवास स्थान माना जाता है। मंदिर, 5,200 फीट की ऊंचाई और कटरा से लगभग 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हर साल लाखों तीर्थ यात्री मंदिर के दर्शन करते हैं।यह भारत में तिरुमला वेंकटेश्वर मंदिर के बाद दूसरा सर्वाधिक देखा जाने वाला धार्मिक तीर्थस्थल है। वैसे तो माता वैष्णो देवी के सम्बन्ध में कई पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं लेकिन मुख्य 2 कथाएँ अधिक प्रचलित हैं।


माता वैष्णो देवी की प्रथम कथा

मान्यतानुसार एक बार पहाड़ों वाली माता ने अपने एक परम भक्तपंडित श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर उसकी लाज बचाई और पूरे सृष्टि को अपने अस्तित्व का प्रमाण दिया। वर्तमान कटरा कस्बे से 2 कि.मी. की दूरी पर स्थित हंसाली गांव में मां वैष्णवी के परम भक्त श्रीधर रहते थे। वह नि:संतान होने से दु:खी रहते थे। एक दिन उन्होंने नवरात्रि पूजन के लिए कुँवारी कन्याओं को बुलवाया। माँ वैष्णो कन्या वेश में उन्हीं के बीच आ बैठीं। पूजन के बाद सभी कन्याएं तो चली गई पर माँ वैष्णो देवी वहीं रहीं और श्रीधर से बोलीं- ‘सबको अपने घर भंडारे का निमंत्रण दे आओ।’ श्रीधर ने उस दिव्य कन्या की बात मान ली और आस - पास के गाँवों में भंडारे का संदेश पहुँचा दिया। वहाँ से लौटकर आते समय गुरु गोरखनाथ व उनके शिष्य बाबा भैरवनाथ जी के साथ उनके दूसरे शिष्यों को भी भोजन का निमंत्रण दिया। भोजन का निमंत्रण पाकर सभी गांववासी अचंभित थे कि वह कौन सी कन्या है जो इतने सारे लोगों को भोजन करवाना चाहती है? इसके बाद श्रीधर के घर में अनेक गांववासी आकर भोजन के लिए एकत्रित हुए। तब कन्या रुपी माँ वैष्णो देवी ने एक विचित्र पात्र से सभी को भोजन परोसना शुरू किया।

भोजन परोसते हुए जब वह कन्या भैरवनाथ के पास गई। तब उसने कहा कि मैं तो खीर - पूड़ी की जगह मांस भक्षण और मदिरापान करुंगा। तब कन्या रुपी माँ ने उसे समझाया कि यह ब्राह्मण के यहां का भोजन है, इसमें मांसाहार नहीं किया जाता। किंतु भैरवनाथ ने जान - बुझकर अपनी बात पर अड़ा रहा। जब भैरवनाथ ने उस कन्या को पकडऩा चाहा, तब माँ ने उसके कपट को जान लिया। माँ ने वायु रूप में बदलकरत्रिकूट पर्वत की ओर उड़ चली। भैरवनाथ भी उनके पीछे गया। माना जाता है कि माँ की रक्षा के लिए पवनपुत्र हनुमान भी थे। मान्यता के अनुसार उस वक़्त भी हनुमानजी माता की रक्षा के लिए उनके साथ ही थे। हनुमानजी को प्यास लगने पर माता ने उनके आग्रह पर धनुष से पहाड़ पर बाण चलाकर एक जलधारा निकाला और उस जल में अपने केश धोए। आज यह पवित्र जलधारा बाणगंगा के नाम से जानी जाती है, जिसके पवित्र जल का पान करने या इससे स्नान करने से श्रद्धालुओं की सारी थकावट और तकलीफें दूर हो जाती हैं।

इस दौरान माता ने एक गुफा में प्रवेश कर नौ माह तक तपस्या की। भैरवनाथ भी उनके पीछे वहां तक आ गया। तब एक साधु ने भैरवनाथ से कहा कि तू जिसे एक कन्या समझ रहा है, वह आदिशक्ति जगदम्बा है। इसलिए उस महाशक्ति का पीछा छोड़ दे। भैरवनाथ साधु की बात नहीं मानी। तब माता गुफा की दूसरी ओर से मार्ग बनाकर बाहर निकल गईं। यह गुफा आज भी अर्धकुमारी या आदिकुमारी या गर्भजून के नाम से प्रसिद्ध है। अर्धक्वाँरी के पहले माता की चरण पादुका भी है। यह वह स्थान है, जहाँ माता ने भागते - भागते मुड़कर भैरवनाथ को देखा था। गुफा से बाहर निकल कर कन्या ने देवी का रूप धारण किया। माता ने भैरवनाथ को चेताया और वापस जाने को कहा। फिर भी वह नहीं माना। माता गुफा के भीतर चली गई। तब माता की रक्षा के लिए हनुमानजी ने गुफा के बाहर भैरव से युद्ध किया।

भैरव ने फिर भी हार नहीं मानी जब वीर हनुमान निढाल होने लगे, तब माता वैष्णवी ने महाकाली का रूप लेकर भैरवनाथ का संहार कर दिया। भैरवनाथ का सिर कटकर भवन से 8 किमी दूर त्रिकूट पर्वत की भैरव घाटी में गिरा। उस स्थान को भैरोनाथ के मंदिर के नाम से जाना जाता है। जिस स्थान पर माँ वैष्णो देवी ने हठी भैरवनाथ का वध किया, वह स्थान पवित्र गुफा' अथवा 'भवन के नाम से प्रसिद्ध है। इसी स्थान पर माँ काली (दाएँ), माँ सरस्वती (मध्य) और माँ लक्ष्मी (बाएँ) पिंडी के रूप में गुफा में विराजित हैं। इन तीनों के सम्मिलत रूप को ही माँ वैष्णो देवी का रूप कहा जाता है। इन तीन भव्य पिण्डियों के साथ कुछ श्रद्धालु भक्तों एव जम्मू कश्मीर के भूतपूर्व नरेशों द्वारा स्थापित मूर्तियाँ एवं यन्त्र इत्यादी है। कहा जाता है कि अपने वध के बाद भैरवनाथ को अपनी भूल का पश्चाताप हुआ और उसने माँ से क्षमादान की भीख माँगी।

माता वैष्णो देवी जानती थीं कि उन पर हमला करने के पीछे भैरव की प्रमुख मंशा मोक्ष प्राप्त करने की थी, उन्होंने न केवल भैरव को पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ति प्रदान की, बल्कि उसे वरदान देते हुए कहा कि मेरे दर्शन तब तक पूरे नहीं माने जाएँगे, जब तक कोई भक्त मेरे बाद तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा। उसी मान्यता के अनुसार आज भी भक्त माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के बाद 8 किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई चढ़कर भैरवनाथ के दर्शन करने को जाते हैं। इस बीच वैष्णो देवी ने तीन पिंड (सिर) सहित एक चट्टान का आकार ग्रहण किया और सदा के लिए ध्यानमग्न हो गईं। इस बीच पंडित श्रीधर अधीर हो गए। वे त्रिकुटा पर्वत की ओर उसी रास्ते आगे बढ़े, जो उन्होंने सपने में देखा था, अंततः वे गुफ़ा के द्वार पर पहुंचे, उन्होंने कई विधियों से 'पिंडों' की पूजा को अपनी दिनचर्या बना ली, देवी उनकी पूजा से प्रसन्न हुईं, वे उनके सामने प्रकट हुईं और उन्हें आशीर्वाद दिया। तब से, श्रीधर और उनके वंशज देवी मां वैष्णो देवी की पूजा करते आ रहे हैं।

माता वैष्णो देवी की अन्य कथा
हिन्दू पौराणिक मान्यताओं में जगत में धर्म की हानि होने और अधर्म की शक्तियों के बढऩे पर आदिशक्ति के सत, रज और तम तीन रूप महासरस्वती, महालक्ष्मी और महादुर्गा ने अपनी सामूहिक बल से धर्म की रक्षा के लिए एक कन्या प्रकट की। यह कन्या त्रेतायुग में भारत के दक्षिणी समुद्री तट रामेश्वर में पण्डित रत्नाकर की पुत्री के रूप में अवतरित हुई। कई सालों से संतानहीन रत्नाकर ने बच्ची को त्रिकुता नाम दिया, परन्तु भगवान विष्णु के अंश रूप में प्रकट होने के कारण वैष्णवी नाम से विख्यात हुई। लगभग 9 वर्ष की होने पर उस कन्या को जब यह मालूम हुआ है भगवान विष्णु ने भी इस भू-लोक में भगवान श्रीराम के रूप में अवतार लिया है। तब वह भगवान श्रीराम को पति मानकर उनको पाने के लिए कठोर तप करने लगी।

जब श्रीराम सीता हरण के बाद सीता की खोज करते हुए रामेश्वर पहुंचे। तब समुद्र तट पर ध्यानमग्र कन्या को देखा। उस कन्या ने भगवान श्रीराम से उसे पत्नी के रूप में स्वीकार करने को कहा। भगवान श्रीराम ने उस कन्या से कहा कि उन्होंने इस जन्म में सीता से विवाह कर एक पत्नीव्रत का प्रण लिया है। किंतुकलियुग में मैं कल्कि अवतार लूंगा और तुम्हें अपनी पत्नी रूप में स्वीकार करुंगा। उस समय तक तुम हिमालय स्थित त्रिकूट पर्वत की श्रेणी में जाकर तप करो और भक्तों के कष्ट और दु:खों का नाश कर जगत कल्याण करती रहो। जब श्री राम ने रावण के विरुद्ध विजय प्राप्त किया तब मां ने नवरात्रमनाने का निर्णय लिया। इसलिए उक्त संदर्भ में लोग, नवरात्र के 9 दिनों की अवधि में रामायण का पाठ करते हैं। श्री राम ने वचन दिया था कि समस्त संसार द्वारा मां वैष्णो देवी की स्तुति गाई जाएगी, त्रिकुटा, वैष्णो देवी के रूप में प्रसिद्ध होंगी और सदा के लिए अमर हो जाएंगी।


   
The sacred shrine of Goddess Vaishno Devi is situated on a hill, at a distance of 12 km from Katra, in the Udhampur district of Jammu-Kashmir.
   
Vaishno Devi is also known as Mata Rani. It is said that she herself gives a call to her devotees to visit.
   
It is an active shrine of Devi which, in spite of being located in a region difficult to reach, attracts the largest number of devotees and tourists after Tirupati.
   
Mata Vaishno Devi Sthapna Board manages the shrine as well as the route to the shrine (Mata Bhavan) from Katra.
In Hinduism, Vaishno Devi, also known as Mata Rani and Vaishnavi, is a manifestation of the Mother Goddess. According to a Hindu epic, Maa Vaishno Devi was born in the South of India in the home of Ratnakar Sagar. Her worldly parents had remained childless for a long time. Ratnakar had promised, the night before the birth of the Divine child, that he would not interfere with whatever his child desired. The shrine of Mata Vaishno Devi is one of the most visited pilgrim sites in India. Situated at a height of 5, 300 ft., the site is located inside a cave in a hill. One of the most visited pilgrim sites in India, the shrine of Mata Vaishno Devi is located in a cave, amidst the folds of the Trikuta Bhagwati hill at a height of 5, 300 ft., in the state of Jammu and Kashmir (J & K). This cave temple is at a distance of 61 kms from Jammu and the last 13 kms of the way have to be negotiated on foot by the yatris, as the devotees are called. Once at the entrance to the cave, the path turns into a narrow tunnel with a cold stream named the Charan Ganga running through it. The pilgrim has to wade through this to reach the sanctum sanctorum. The holy cave shrine of Vaishno Devi is nestled in a beautiful recess of the Trikuta Mountains forming a part of the lower Himalayas. It is located 61 km north of Jammu at a height of 5,200 feet above the sea level in the state of Jammu and Kashmir. In the cave there are images of three deities viz. the Mahakali, Mahalakshmi and Mahasaraswati.Maa resides in a beautiful cave in the form of 3 'Pindis' namely, Maha-Kali, Maha-Laxmi and Maha-Sarawati. Ma Vaishno Devi took birth in the South of India in the home of Ratnakar Sagar, Her worldly parents had remained childless for a long time. Ratnakar had promised, the night before the birth of the Divine child, that he would not come in the way of whatever his child desired. Ma Vaishno Devi was called Trikuta as a child. Later She was called Vaishnavi because of Her taking birth from Lord Vishnu's lineage. When Trikuta was 9 years old, She sought her father's permission for doing penance on the sea-shore. Trikuta prayed to Lord Vishnu in the form of Rama. During Shree Ram's search for Sita, He reached the sea-shore along with His army. His eyes fell on this Divine Girl in deep meditation. Trikuta told Shree Ram that She had accepted Him as Her husband. Shree Ram told Her that during this Incarnation He had vowed to be faithful to only Sita. However the Lord assured Her that in 'Kaliyuga' He would manifest as 'Kalki' and would marry Her. In the meantime Shree Ram asked Trikuta to meditate in the cave found in the Trikuta Range of Manik Mountains, situated in Northern India. Ma decided to observe the 'Navratra' for the Victory of Shree Ram against Ravan. Hence one reads the Ramayana during the 9 days of Navratra, in remembrance of the above connection. Shree Ram promised that the whole world would sing Ma Vaishno Devi's praise. Trikuta was to become famous as Vaishno Devi and would become immortal forever. With the passage of time many more stories about the Mother Goddess emerged. One such story is about Shree-Dhar. The above story is about 700 years old. Shri-Dhar was an ardent devotee of Ma Vaishno Devi. He resided in a village called Hansali, 2 Km away from the present Katra town. Once Ma appeared to him in the form of a young bewitching girl. The young girl asked the humble Pandit to hold a 'Bhandara'. (A feast to feed the mendicants and devotees) The Pandit set out to invite people from the village and near-by places. He also invited 'Bhairav Nath'. Bhairav Nath asked Shri-Dhar how he was planning to fulfill the requirements. He reminded him of the bad consequences in case of failure. As Panditji was lost in worry, the Divine girl appeared and told Him not to be despondent as everything had been arranged. She asked that over 360 devotees be seated in the small hut. True to Her word the Bhandara went smoothly with food and place to spare. Bhairav Nath admitted that the girl had supernatural powers and decided to test Her further. Bhairav Nath followed the Divine girl to Trikuta Hills. For 9 months Bhairav Nath was searching for the mystic girl in the mountains. He saw the 'girl' hitting the stone with an arrow and water gushing out of the stone. He 'saw' the 'girl' sitting on the mountain top. When Bhairav went to that place, he saw footprints on the stone. Bhairav wondered how the 'girl' had eluded him for 9 months! Wondering whether she was hiding in the cave (Adi Kunwaari), he decide to enter it. On seeing Bhairav entering the cave, Ma tore open a path behind the cave, by Her trident and came out. Ma reached the beautiful cave in the Trikuta mountain. She urged Bhairav not to follow Her. But he disobeyed. The Goddess took the shape of Fierce Chandi and killed Bhairav. The head of Bhairav fell on the mountain peak. Bhairav had Spiritual powers. So though his head was severed, he still retained consciousness. Bhairav repented for his conduct. Ma forgave him and granted him the boon that whosoever worshipped Her would later visit his shrine. Meanwhile Pandit Shree-Dhar became impatient. He started to march towards Trikuta Mountain on the same path that he had witnessed in a dream. He ultimately reached the cave mouth. He made a daily routine of worshipping the 'Pindis' in several ways. His worship pleased the Goddess. She appeared in front of him and blessed him. Since that day, Shree-Dhar and his descendants have been worshipping the Goddess Mother Vaishno Devi.
 
Manifo.com - free business website