“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

Lord Shiv Avatars/ Roops

Ardhnaarishwar Avatar:
Ardhnaarishwar form of the Lord Shiva includes half body of Lord Shiva and other half of the Mata Parvati. This form is very calm and peaceful, provides blessings to the devotees.

Nandi Avatar:
Lord Shiva had taken lots of avatars on the earth according to the requirement for their devotees. Nandi avatar is one of all the avatars.
नंदी अवतार (Nandi Aavtar) :-
भगवान शंकर सभी जीवों का प्रतिनिधित्व करते हैं। भगवान शंकर का नंदीश्वर अवतार भी इसी बात का अनुसरण करते हुए सभी जीवों से प्रेम का संदेश देता है। नंदी (बैल) कर्म का प्रतीक है, जिसका अर्थ है कर्म ही जीवन का मूल मंत्र है। इस अवतार की कथा इस प्रकार है- शिलाद मुनि ब्रह्मचारी थे। वंश समाप्त होता देख उनके पितरों ने शिलाद से संतान उत्पन्न करने को कहा। शिलाद ने अयोनिज और मृत्युहीन संतान की कामना से भगवान शिव की तपस्या की। 
तब भगवान शंकर ने स्वयं शिलाद के यहां पुत्र रूप में जन्म लेने का वरदान दिया। कुछ समय बाद भूमि जोतते समय शिलाद को भूमि से उत्पन्न एक बालक मिला। शिलाद ने उसका नाम नंदी रखा। भगवान शंकर ने नंदी को अपना गणाध्यक्ष बनाया। इस तरह नंदी नंदीश्वर हो गए। मरुतों की पुत्री सुयशा के साथ नंदी का विवाह हुआ। 

Nataraja Avatar:
Itis a depiction of the god Shiva as the cosmic dancer who performs his divine dance to destroy a weary universe and make preparations for the god Brahma to start the process of creation.

Batuk Avatar:
It is interesting to see the peaceful acceptance of cremation ground temples of Batuk Bhairava, a form of Lord Shiva, by the general populace.

Sharabha Avatar:
 This form of the Lord Shiva was the 6th avatar of him.
शरभावतार (Sharabha Avatar) :-
भगवान शंकर का छटा अवतार है शरभावतार। शरभावतार में भगवान शंकर का स्वरूप आधा मृग (हिरण) तथा शेष शरभ पक्षी (पुराणों में वर्णित आठ पैरों वाला जंतु जो शेर से भी शक्तिशाली था) का था। इस अवतार में भगवान शंकर ने नृसिंह भगवान की क्रोधाग्नि को शांत किया था। लिंगपुराण में शिव के शरभावतार की कथा है, उसके अनुसार- 
हिरण्यकशिपु का वध करने के लिए भगवान विष्णु ने नृसिंहावतार लिया था। हिरण्यकशिपु के वध के पश्चात भी जब भगवान नृसिंह का क्रोध शांत नहीं हुआ तो देवता शिवजी के पास पहुंचे। तब भगवान शिव ने शरभावतार लिया और वे इसी रूप में भगवान नृसिंह के पास पहुंचे तथा उनकी स्तुति की, लेकिन नृसिंह की क्रोधाग्नि शांत नहीं हुई। यह देखकर शरभ रूपी भगवान शिव अपनी पूंछ में नृसिंह को लपेटकर ले उड़े। तब कहीं जाकर भगवान नृसिंह की क्रोधाग्नि शांत हुई। उन्होंने शरभावतार से क्षमा याचना कर अति विनम्र भाव से उनकी स्तुति की।

Grihpati Avatar:
Grihpati avatar of the Lord Shiva was the 7th avatar of him.
गृहपति अवतार (Grihapati Avatar) :-
भगवान शंकर का सातवां अवतार है गृहपति। इसकी कथा इस प्रकार है- नर्मदा के तट पर धर्मपुर नाम का एक नगर था। वहां विश्वानर नाम के एक मुनि तथा उनकी पत्नी शुचिष्मती रहती थीं। शुचिष्मती ने बहुत काल तक नि:संतान रहने पर एक दिन अपने पति से शिव के समान पुत्र प्राप्ति की इच्छा की। पत्नी की अभिलाषा पूरी करने के लिए मुनि विश्वनार काशी आ गए। यहां उन्होंने घोर तप द्वारा भगवान शिव के वीरेश लिंग की आराधना की। 
एक दिन मुनि को वीरेश लिंग के मध्य एक बालक दिखाई दिया। मुनि ने बालरूपधारी शिव की पूजा की। उनकी पूजा से प्रसन्न होकर भगवान शंकर ने शुचिष्मति के गर्भ से अवतार लेने का वरदान दिया। कालांतर में शुचिष्मति गर्भवती हुई और भगवान शंकर शुचिष्मती के गर्भ से पुत्ररूप में प्रकट हुए। कहते हैं, पितामह ब्रह्मïा ने ही उस बालक का नाम गृहपति रखा था।

Neel Kanth Avatar:
Neel Kanth avatar is also a main form of him. Once there was arisen a lot of Vish from the churning of the ocean. Lord Shiva had drunk all the Vish to prevent his beautiful world from the bad effects of Vish. Mata Parvati had stopped the Vish to fall below the neck by putting her palm on his neck. So, this form of him is known as the Neel kanth avatar.

Rishi Durvasha Avatar:
It is considered as this avatar of the Lord is the main avatar. He has taken this avatar on the earth to maintain the discipline of the universe.
ऋषि दुर्वासा  (Rishi Durvasa Avatar) :-
भगवान शंकर के विभिन्न अवतारों में ऋषि दुर्वासा का अवतार भी प्रमुख है। धर्म ग्रंथों के अनुसार सती अनुसूइया के पति महर्षि अत्रि ने ब्रह्मा के निर्देशानुसार पत्नी सहित ऋक्षकुल पर्वत पर पुत्रकामना से घोर तप किया। उनके तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों उनके आश्रम पर आए। उन्होंने कहा- हमारे अंश से तुम्हारे तीन पुत्र होंगे, जो त्रिलोकी में विख्यात तथा माता-पिता का यश बढ़ाने वाले होंगे। 
समय आने पर ब्रह्माजी के अंश से चंद्रमा उत्पन्न हुए। विष्णु के अंश से श्रेष्ठ संन्यास पद्धति को प्रचलित करने वाले दत्तात्रेय उत्पन्न हुए और रुद्र के अंश से मुनिवर दुर्वासा ने जन्म लिया। 

Gorakhnath
Traditionally, Guru Gorakshanath is believed to have been born sometime
in the 8th century, although some believe he was born hundreds of years
later. He traveled widely across the Indian subcontinent, and accounts about him are found in some form in several places including Afghanistan, Baluchistan, Punjab, Sindh, Uttar Pradesh, Uttarakhand, Nepal, Assam, Bengal, Kathiawar(Gujarat), Maharashtra, Karnataka, and even Sri Lanka.
There are varying records of the spiritual descent of Gorakshanath. All name Adinath and Matsyendranath as two teachers preceding him in the succession. Though one account lists five gurus preceding Adinath and another lists six teachers between Matsyendranath and Gorakshanath, current tradition has Adinath identified with Lord Shiva as the direct teacher of Matsyendranath, who was himself the direct teacher of Gorakshanath.
The Nath tradition underwent its greatest expansion during the time of Gorakshanath. He produced a number of writings and even today is considered the greatest of the Naths. It has been purported that Gorakshanath wrote the first books on Laya yoga.In India there are many caves, many with temples built over them, where it is said that Gorakshanath spent time in meditation. According to Bhagawan Nityananda, the samadhi shrine (tomb) of Gorakshanath is at Nath Mandir near the Vajreshwari temple about one kilometer from Ganeshpuri, Maharashtra, India.According to legends Gorakshanath and Matsyendranath did penance in Kadri Temple at Mangalore, Karnataka.They are also instrumental in laying Shivlingam at Kadri and Dharmasthala.

Mahesh Avatar:
Mahesh avatar is also a peaceful form of the Lord Shiva which blesses his devotees.

Hanuman Avatar:
hanuman avatar is considered as the supreme
avatar of him. Lord Shiva has taken this avatar during the time Lord Rama to present a good example of the Lord and Bhakt in front of the people.
हनुमान (Hanuman Avatar) :-
भगवान शिव का हनुमान अवतार सभी अवतारों में श्रेष्ठ माना गया है। इस अवतार में भगवान शंकर ने एक वानर का रूप धरा था। शिवमहापुराण के अनुसार देवताओं और दानवों को अमृत बांटते हुए विष्णुजी के मोहिनी रूप को देखकर लीलावश शिवजी ने कामातुर होकर अपना वीर्यपात कर दिया। 
सप्तऋषियों ने उस वीर्य को कुछ पत्तों में संग्रहित कर लिया। समय आने पर सप्तऋषियों ने भगवान शिव के वीर्य को वानरराज केसरी की पत्नी अंजनी के कान के माध्यम से गर्भ में स्थापित कर दिया, जिससे अत्यंत तेजस्वी एवं प्रबल पराक्रमी श्री हनुमानजी उत्पन्न हुए। 

Vrashabh Avatar:
Brishabh avatar is the very significant form of the God Shiva.
वृषभ अवतार ( Vrashabh Avatar) :-
भगवान शंकर ने विशेष परिस्थितियों में वृषभ अवतार लिया था। इस अवतार में भगवान शंकर ने विष्णु पुत्रों का संहार किया था। धर्म ग्रंथों के अनुसार जब भगवान विष्णु दैत्यों को मारने पाताल लोक गए तो उन्हें वहां बहुत सी चंद्रमुखी स्त्रियां दिखाई पड़ी। 
विष्णु ने उनके साथ रमण करके बहुत से पुत्र उत्पन्न किए। विष्णु के इन पुत्रों ने पाताल से पृथ्वी तक बड़ा उपद्रव किया। उनसे घबराकर ब्रह्माजी ऋषिमुनियों को लेकर शिवजी के पास गए और रक्षा के लिए प्रार्थना करने लगे। तब भगवान शंकर ने वृषभ रूप धारण कर विष्णु पुत्रों का संहार किया।

Piplaad Avatar:
Lord Shiva helps their devotees to get free from
the Shani Dosha in this form. It is considered as the name of this avatar was given by the Lord Brahma.
पिप्पलाद अवतार (Piplad Aavtar) :-
मानव जीवन में भगवान शिव के पिप्पलाद अवतार का बड़ा महत्व है। शनि पीड़ा का निवारण पिप्पलाद की कृपा से ही संभव हो सका। कथा है कि पिप्पलाद ने देवताओं से पूछा- क्या कारण है कि मेरे पिता दधीचि जन्म से पूर्व ही मुझे छोड़कर चले गए? देवताओं ने बताया शनिग्रह की दृष्टि के कारण ही ऐसा कुयोग बना। पिप्पलाद यह सुनकर बड़े क्रोधित हुए। उन्होंने शनि को नक्षत्र मंडल से गिरने का श्राप दे दिया। 
श्राप के प्रभाव से शनि उसी समय आकाश से गिरने लगे। देवताओं की प्रार्थना पर पिप्पलाद ने शनि को इस बात पर क्षमा किया कि शनि जन्म से लेकर 16 साल तक की आयु तक किसी को कष्ट नहीं देंगे। तभी से पिप्पलाद का स्मरण करने मात्र से शनि की पीड़ा दूर हो जाती है। शिव महापुराण के अनुसार स्वयं ब्रह्मा ने ही शिव के इस अवतार का नामकरण किया था।

Vaishyanath Avatar:
This is the main avatar of the Lord Shiva to his devotees.

Harihara: Harihara (Sanskrit: हरिहर) is the name of a combined deity form of both Vishnu (Hari) and Shiva (Hara) from the Hindu tradition. Also known as Shankaranarayana ("Shankara" is Shiva, and "Narayana" is Vishnu), Harihara is thus worshipped by both Vaishnavites and Shaivites as a form of the Supreme God, as well as being a figure of worship for other Hindu traditions in general. Harihara is also sometimes used as a philosophical term to denote the unity of Vishnu and Shiva as different aspects of the same Supreme God. The exact nature of both Vishnu and Shiva (from their associated stories in Vedic and Puranic scriptures), and their position of difference or unity (or both), is a subject of some debate amongst the different philosophical schools.

Yatinath Avatar: Yatinath avatar of the God Shiva represents a peaceful form of him to his devotees.
यतिनाथ अवतार ( Yatinath Avatar) :-
भगवान शंकर ने यतिनाथ अवतार लेकर अतिथि के महत्व का प्रतिपादन किया था। उन्होंने इस अवतार में अतिथि बनकर भील दम्पत्ति की परीक्षा ली थी, जिसके कारण भील दम्पत्ति को अपने प्राण गवाने पड़े। धर्म ग्रंथों के अनुसार अर्बुदाचल पर्वत के समीप शिवभक्त आहुक-आहुका भील दम्पत्ति रहते थे। एक बार भगवान शंकर यतिनाथ के वेष में उनके घर आए। उन्होंने भील दम्पत्ति के घर रात व्यतीत करने की इच्छा प्रकट की। आहुका ने अपने पति को गृहस्थ की मर्यादा का स्मरण कराते हुए स्वयं धनुषबाण लेकर बाहर रात बिताने और यति को घर में विश्राम करने देने का प्रस्ताव रखा। 
इस तरह आहुक धनुषबाण लेकर बाहर चला गया। प्रात:काल आहुका और यति ने देखा कि वन्य प्राणियों ने आहुक का मार डाला है। इस पर यतिनाथ बहुत दु:खी हुए। तब आहुका ने उन्हें शांत करते हुए कहा कि आप शोक न करें। अतिथि सेवा में प्राण विसर्जन धर्म है और उसका पालन कर हम धन्य हुए हैं। जब आहुका अपने पति की चिताग्नि में जलने लगी तो शिवजी ने उसे दर्शन देकर अगले जन्म में पुन: अपने पति से मिलने का वरदान दिया।

Krishna Darshan Avatar:
Lord Shiva, in this form had represented the significance of the yagya and important religious rituals in Hinduism.
कृष्णदर्शन अवतार (Krishna Darshan Avatar) :-
भगवान शिव ने इस अवतार में यज्ञ आदि धार्मिक कार्यों के महत्व को बताया है। इस प्रकार यह अवतार पूर्णत: धर्म का प्रतीक है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इक्ष्वाकुवंशीय श्राद्धदेव की नवमी पीढ़ी में राजा नभग का जन्म हुआ। विद्या-अध्ययन को गुरुकुल गए नभग जब बहुत दिनों तक न लौटे तो उनके भाइयों ने राज्य का विभाजन आपस में कर लिया। नभग को जब यह बात ज्ञात हुई तो वह अपने पिता के पास गए। पिता ने नभग से कहा कि वह यज्ञ परायण ब्राह्मणों के मोह को दूर करते हुए उनके यज्ञ को सम्पन्न करके, उनके धन को प्राप्त करे। 
तब नभग ने यज्ञभूमि में पहुंचकर वैश्य देव सूक्त के स्पष्ट उच्चारण द्वारा यज्ञ संपन्न कराया। अंगारिक ब्राह्मण यज्ञ अवशिष्ट धन नभग को देकर स्वर्ग को चले गए। उसी समय शिवजी कृष्णदर्शन रूप में प्रकट होकर बोले कि यज्ञ के अवशिष्ट धन पर तो उनका अधिकार है। विवाद होने पर कृष्णदर्शन रूपधारी शिवजी ने उसे अपने पिता से ही निर्णय कराने को कहा। नभग के पूछने पर श्राद्धदेव ने कहा-वह पुरुष शंकर भगवान हैं। यज्ञ में अवशिष्ट वस्तु उन्हीं की है। पिता की बातों को मानकर नभग ने शिवजी की स्तुति की। 

Ashwatthama Avatar:
According to Mahabharat, the son Dronacharya, Ashwatthama is an ansh Lord Shiva’s Kaal, krodh (anger) and Yam (death).
अश्वत्थामा (Ashwathama Aavtar) :-
महाभारत के अनुसार पांडवों के गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र अश्वत्थामा काल, क्रोध, यम व भगवान शंकर के अंशावतार थे। आचार्य द्रोण ने भगवान शंकर को पुत्र रूप में पाने की लिए घोर तपस्या की थी और भगवान शिव ने उन्हें वरदान दिया था कि वे उनके पुत्र के रूप मेें अवतीर्ण होंगे। समय आने पर सवन्तिक रुद्र ने अपने अंश से द्रोण के बलशाली पुत्र अश्वत्थामा के रूप में अवतार लिया। ऐसी मान्यता है कि अश्वत्थामा अमर हैं तथा वह आज भी धरती पर ही निवास करते हैं। शिवमहापुराण (शतरुद्रसंहिता-37) के अनुसार अश्वत्थामा आज भी जीवित हैं और वे गंगा के किनारे निवास करते हैं किंतु उनका निवास कहां हैं, यह नहीं बताया गया है।

Awdhuteshwar Avatar:
In this form Lord Shiva had crushed the ego of proud Indra.

Bhichhuwarya Avatar:
In this form, Lord Shiva protects his all creatures from any difficulty.

Sureshwar Avatar:
This form of Lord Shiva represents the love and care of him towards his devotees.
सुरेश्वर अवतार ( Sureshwar Avatar) :-
भगवान शंकर का सुरेश्वर (इंद्र) अवतार भक्त के प्रति उनकी प्रेमभावना को प्रदर्शित करता है। इस अवतार में भगवान शंकर ने एक छोटे से बालक उपमन्यु की भक्ति से प्रसन्न होकर उसे अपनी परम भक्ति और अमर पद का वरदान दिया। धर्म ग्रंथों के अनुसार व्याघ्रपाद का पुत्र उपमन्यु अपने मामा के घर पलता था। वह सदा दूध की इच्छा से व्याकुल रहता था। उसकी मां ने उसे अपनी अभिलाषा पूर्ण करने के लिए शिवजी की शरण में जाने को कहा। इस पर उपमन्यु वन में जाकर ऊँ नम: शिवाय का जप करने लगा। 
शिवजी ने सुरेश्वर (इंद्र) का रूप धारण कर उसे दर्शन दिया और शिवजी की अनेक प्रकार से निंदा करने लगा। इस पर उपमन्यु क्रोधित होकर इंद्र को मारने के लिए खड़ा हुआ। उपमन्यु को अपने में दृढ़ शक्ति और अटल विश्वास देखकर शिवजी ने उसे अपने वास्तविक रूप के दर्शन कराए तथा क्षीरसागर के समान एक अनश्वर सागर उसे प्रदान किया। उसकी प्रार्थना पर कृपालु शिवजी ने उसे परम भक्ति का पद भी दिया।

Bramhchari Avatar:
Lord Shiva had taken this avatar to test the
Mata Parvati. When Sati rebirth on the earth to the Himalaya’s house as
his daughter, Parvati and started worshipping the God Shiva to marry him.
ब्रह्मचारी अवतार ( Brahmchari  Avatar ) :-
दक्ष के यज्ञ में प्राण त्यागने के बाद जब सती ने हिमालय के घर जन्म लिया तो शिवजी को पति रूप में पाने के लिए घोर तप किया। पार्वती की परीक्षा लेने के लिए शिवजी ब्रह्मचारी का वेष धारण कर उनके पास पहुंचे। पार्वती ने ब्रह्मचारी  को देख उनकी विधिवत पूजा की। 
जब ब्रह्मचारी ने पार्वती से उसके तप का उद्देश्य पूछा और जानने पर शिव की निंदा करने लगे तथा उन्हें श्मशानवासी व कापालिक भी कहा। यह सुन पार्वती को बहुत क्रोध हुआ। पार्वती की भक्ति व प्रेम को देखकर शिव ने उन्हें अपना वास्तविक स्वरूप दिखाया। यह देख पार्वती अति प्रसन्न हुईं।

Sunatnartak Avatar:
Lord Shiva had taken this form to ask the hand of Parvati from her father, Himalaya.
सुनटनर्तक अवतार ( Sunatnartak Avatar) :-
पार्वती के पिता हिमाचल से उनकी पुत्री का हाथ मागंने के लिए शिवजी ने सुनटनर्तक वेष धारण किया था। हाथ में डमरू लेकर शिवजी नट के रूप में हिमाचल के घर पहुंचे और नृत्य करने लगे। नटराज शिवजी ने इतना सुंदर और मनोहर नृत्य किया कि सभी प्रसन्न हो गए। 
जब हिमाचल ने नटराज को भिक्षा मांगने को कहा तो नटराज शिव ने भिक्षा में पार्वती को मांग लिया। इस पर हिमाचलराज अति क्रोधित हुए। कुछ देर बाद नटराज वेषधारी शिवजी पार्वती को अपना रूप दिखाकर स्वयं चले गए। उनके जाने पर मैना और हिमाचल को दिव्य ज्ञान हुआ और उन्होंने पार्वती को शिवजी को देने का निश्चय किया। 

Saddhu Avatar:
Lord Shiva had taken Sadhu avatar many times according to the need of his devotees.

Vibhuashwathama Avatar:
 Lord Shiva had taken this avatar in the Mahabharat as Ashwatthama (son Dronacharya).

Kiraat Avatar:
Lord Shiva, in this form had taken the test of Arjuna.
किरात अवतार (Kirat Avatar) :-
किरात अवतार में भगवान शंकर ने पाण्डुपुत्र अर्जुन की वीरता की परीक्षा ली थी। महाभारत के अनुसार कौरवों ने छल-कपट से पाण्डवों का राज्य हड़प लिया व पाण्डवों को वनवास पर जाना पड़ा। वनवास के दौरान जब अर्जुन भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए तपस्या कर रहे थे, तभी दुर्योधन द्वारा भेजा हुआ मूड़ नामक दैत्य अर्जुन को मारने के लिए शूकर( सुअर) का रूप धारण कर वहां पहुंचा। 
अर्जुन ने शूकर पर अपने बाण से प्रहार किया, उसी समय भगवान शंकर ने भी किरात वेष धारण कर उसी शूकर पर बाण चलाया। शिव कीमाया के कारण अर्जुन उन्हें पहचान न पाए और शूकर का वध उसके बाण से हुआ है, यह कहने लगे। इस पर दोनों में विवाद हो गया। अर्जुन ने किरात वेषधारी शिव से युद्ध किया। अर्जुन की वीरता देख भगवान शिव प्रसन्न हो गए और अपने वास्तविक स्वरूप में आकर अर्जुन को कौरवों पर विजय का आशीर्वाद दिया। 

Veerbhadra Avatar:
This avatar was taken by the Lord Shiva after
the sacrifice of the Sati into the Daksha’s yagya. This form of the Lord
Shiva was very terrible, face was full of angry, hair opened, indicated his love and care towards his wife.
वीरभद्र अवतार (Virbhadra Aavtar) : -
भगवान शिव का यह अवतार तब हुआ था, जब दक्ष द्वारा आयोजित यज्ञ में माता सती ने अपनी देह का त्याग किया था। जब भगवान शिव को यह ज्ञात हुआ तो उन्होंने क्रोध में अपने सिर से एक जटा उखाड़ी और उसे रोषपूर्वक पर्वत के ऊपर पटक दिया। उस जटा के पूर्वभाग से महाभंयकर वीरभद्र प्रगट हुए। शिव के इस अवतार ने दक्ष के यज्ञ का विध्वंस कर दिया और दक्ष का सिर काटकर उसे मृत्युदंड दिया।

Bhairav Avatar:
Lord Shiva has taken Bhairav avatar to protect
the Sati pindas. After the death of Sati into the yagya of Daksha, Lord
Shiva was wandering all over the world by taking the Sati body. Lord
Vishnu had cut the body of Sati into many pieces (52) by his wheel.
Those pieces were fallen on the earth. So to protect those Sati pindas from the devils, Lord Shiva had taken the Bhairav avatar.
भैरव अवतार (Bhairav Aavtar) :- शिव महापुराण में भैरव को परमात्मा शंकर का पूर्ण रूप बताया गया है। एक बार भगवान शंकर की माया से प्रभावित होकर ब्रह्मा व विष्णु स्वयं को श्रेष्ठ मानने लगे। तब वहां तेज-पुंज के मध्य एक पुरुषाकृति दिखलाई पड़ी। उन्हें देखकर ब्रह्माजी ने कहा- चंद्रशेखर तुम मेरे पुत्र हो। अत: मेरी शरण में आओ। ब्रह्मा की ऐसी बात सुनकर भगवान शंकर को क्रोध आ गया। उन्होंने उस पुरुषाकृति से कहा- काल की भांति शोभित होने के कारण आप साक्षात कालराज हैं। भीषण होने से भैरव हैं। भगवान शंकर से इन वरों को प्राप्त कर कालभैरव ने अपनी अंगुली के नाखून से ब्रह्मा के पांचवे सिर को काट दिया। ब्रह्मा का पांचवा सिर काटने के कारण भैरव ब्रह्महत्या के पाप से दोषी हो गए। काशी में भैरव को ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति मिली। काशीवासियों के लिए भैरव की भक्ति अनिवार्य बताई गई है।

Allama Prabhu Avatar: This is one of the incarnations of the Lord Shiva.This form was involved with the Kalyanapuri revolution where Bijala Raja was slain.

Khandoba Avatar:
Khandoba, (Marathi: खंडोबा Kannada: ಖಂಡೋಬಾ, Khaṇḍobā) also known as Martanda Bhairava and Malhari, is a Hindu god, worshipped as a form of Shiva, mainly in the Deccan plateau of India, especially in the states of Maharashtra and Karnataka. He is the most popular family deity in Maharashtra. He is also the patron deity of warrior, farming, herding as well as some Brahmin (priest) castes, the hunters and gatherers of the hills and forests. The cult of Khandoba has linkages with Vaishnava and Jain traditions, and also assimilates all communities irrespective of caste, including Muslims. Khandoba is sometimes identified with Mallanna of Andhra Pradesh and Mailara of Karnataka.
The worship of Khandoba developed during the 9th and 10th centuries
from a folk deity into a composite god possessing the attributes of Shiva, Bhairava, Surya and Karttikeya (Skanda). He is depicted either in the form of a Lingam, or as an image riding on a bull or a horse. The foremost centre of Khandoba worship is Jejuri in Maharashtra. The legends of Khandoba, found in the text Malhari Mahatmya and also narrated in folk songs, revolve around his victory over demons Mani-malla and his marriages.

Viraat Avtaar:

Lord Shiva is usually known for His third eye. The eye which emits flames and burns things to ashes. It is believed that when the Lord is extremely angry, He opens His third eye and punishes the culprit. Many people assume that because of His destructive 'third eye', Lord Shiva is known as the destroyer. Shiva's third eye is also sometimes known as the eye of wisdom. The right and left eye represent His activities in the physical world while the third eye symbolises His spiritual wisdom and power.


Adi Shankara (pronounced [aːd̪i ɕəŋkəɾə]; early 8th century CE[2][note 1]) – also known as (Adi) Shankaracharya and Shankara Bhagavatpada, spelled variously as Sankaracharya, (Ādi) Śaṅkarācārya, Śaṅkara Bhagavatpāda, Śaṅkara Bhagavatpādācārya – was one of the most revered Hindu philosophers and theologians[5] from India who consolidated the doctrine of Advaita Vedanta.[1][6]
His works in Sanskrit establish the doctrine of advaita, the unity of the ātman and Nirguna Brahman "brahman without attributes".[7] His works elaborate on ideas found in the Upanishads. He wrote copious commentaries on the Vedic canon (Brahma Sutras, principal upanishads and Bhagavad Gita) in support of his thesis.
The main opponent in his work is the Mīmāṃsā school of thought, though he also offers arguments against the views of some other schools like Samkhya and certain schools of Buddhism.[7][8][9]
Shankara travelled across the Indian subcontinent
to propagate his philosophy through discourses and debates with other
thinkers. He established the importance of monastic life as sanctioned
in the Upanishads and Brahma Sutra, in a time when the Mīmāṃsā school
established strict ritualism and ridiculed monasticism. He is reputed to
have founded four mathas
("monasteries"), which helped in the historical development, revival
and spread of Advaita Vedanta of which he is known as the greatest revivalist.[6] Adi Shankara is believed to be the organiser of the Dashanami monastic order and the founder of the Shanmata tradition of worship.
Manifo.com - free business website