“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

story / History

रावण और कुंभकरण ने लिए थे तीन जन्म,

2018-10-29 17:13:17
इस दुनिया में रावण या कुंभकरण नाम का कभी कोई दूसरा नहीं हुआ। राजाधिराज लंकाधिपति महाराज रावण को 'दशानन' भी कहते हैं। कहा जाता है कि रावण लंका का तमिल राजा था। रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और ...
read more

नवरात्र / माता के इन 21 स्वरूपों की करें आराधना, सभी कष्ठ हो सकते हैं दूर

2018-10-10 14:31:38
शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो चुकी है, जो 18 अक्टूबर को समाप्त होंगी। इस दौरान देवी मां के विभिन्न स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाएगी। आज हम आपको माता के विशेष स्वरूप के बारे में बता रहे हैं, जिनकी आ...
read more

पवित्र कथा महाकालेश्वर की, जानिए कबसे भगवान महाकाल उज्जैन में विराजित हैं

2018-08-21 21:22:52
उज्जयिनी में राजा चंद्रसेन का राज था। वह भगवान शिव का परम भक्त था। शिवगणों में मुख्य मणिभद्र नामक गण उसका मित्र था। एक बार मणिभद्र ने राजा चंद्रसेन को एक अत्यंत तेजोमय 'चिंतामणि' प्रदान की। चंद्रस...
read more

शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

2018-06-05 16:42:45
Sangchul Mahadev Temple, Kullu – हिमाचल प्रदेश जितना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण जाना जाता है उतना ही यहां की परंपराओं के कारण भी। आज हम आपको बता रहा है कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंग...
read more

ब्राह्मण पुत्र होने के बाद भी परशुराम में क्यों थे क्षत्रियों के गुण

2018-06-05 16:39:59
Kahani Bhagwan Parshuram Ki | यह तो हम सभी जानते है की भगवान परशुराम एक ब्राह्मण थे। लेकिन आचरण उनका क्षत्रियों जैसा था।ब्राह्मण पुत्र होते हुए भी परशुराम में क्षत्रियों के गुण क्यों थे, इसका जवाब जान...
read more

''प्रभू, मुझे यह जीवन क्यों मिला?

2018-04-29 16:01:19
एक बार एक आदमी महात्मा बुद्ध के पास पहुंचा। उसने पुछा- ''प्रभू, मुझे यह जीवन क्यों मिला? इतनी बड़ी दुनिया में मेरी क्या कीमत है?'' बुद्ध उसकी बात सुनकर मुस्कराए और उसे एक चमकीला पत्थर देते हुए बोले, ...
read more

​रामायण के अनुसार​ नारी गहने क्यों पहनती हैं ?​

2018-03-24 01:06:17
​जय माता दी​ भगवान राम ने धनुष तोड दिया था, सीताजी को सात फेरे लेने के लिए सजाया जा रहा था तो वह अपनी मां से प्रश्न पूछ बैठी, ​‘‘माताश्री इतना श्रृंगार क्यों?’’​ ‘&lsquo...
read more

​भगवान शिव के इस रुप के दर्शन हेतु 16 बार लांघनी पड़ती है एक ही नदी​

2018-03-03 14:25:44
भगवान शिव के विश्वभर में बहुत से मंदिर है। इन में से बहुत से मंदिरों में भगवान शंकर शिवलिंग के रूप में विराजित है। एेसा ही एक मंदिर छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले में है। यह मंदिर राजनांदगांव जिले में...
read more

​प्रतिभा से बढ़कर और कोई समर्थता है नहीं​

2018-03-03 14:21:14
प्रतिभा से बढ़कर और कोई समर्थता है नहीं बुद्ध को मार डालने का षड्यन्त्र अंगुलिमाल महादस्यु ने बनाया। वह तलवार निकाले बुद्ध के पास पहुँचा और आक्रमण करने पर उतारू ही था कि सामने पहुँचते-पहुँचते पानी-प...
read more

गंगा के शिव की जटाओं में उतरने का आशय

2018-02-12 20:03:46
पुराणों में वर्णन आता है कि राजा सगर के साठ हजार पुत्र थे। उन्होंने खेल-खेल में उच्छृंखलता पूर्वक कपिल मुनि की तपस्या में बाधा डाली। कपिल मुनि कहीं शांत, निर्जन स्थल पर बैठ कर अपनी साधना कर रहे थे। सग...
read more
« Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next »
Manifo.com - free business website