“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

हम दिवाली क्यों मानते है ? ( why do celebrate diwali ?)

2015-11-02 06:43:04, comments: 0

1. आज ही के दिन आदिकाल से माँ कमला और माँ कलिका तथा गणेश जी की आदि तांत्रिक पूजा होती आ रही है।

2. आज ही के दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए।

3. आज ही के दिन भगवान राम दुष्ट रावण का वध कर अयोध्या पधारे थे।

4. आज ही के दिन भगवान कृष्ण ने नरकासुर राक्षस का वध किया था।

5. आज ही के दिन सिद्धार्थ कपिलवस्तु गौतम बुद्ध बनकर लौटे l

6. आज ही के दिन भगवान महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुए।

7. आज ही के दिन भगवान विष्णु ने दैत्य राज हिरण्यकश्यप का वध किया था।

8. आज ही के दिन गवालियर से गुरु हरगोविंद जी अपने साथ 52 हिन्दू राजाओं को मुग़ल राजा जाहंगीर की कैद से मुक्त करा वापस लाये थे।

9. आज ही के दिन से नेपाल का नया साल शुरू होता है।

10. स्वामी रामतीर्थ एवं स्वामी दयानंद ने आज ही के दिन निर्वाण को प्राप्त हुए।

11. मुस्लिम होने के बावजूद मुग़ल राजा अकबर, जहांगीर, बहादुर शाह जफ़र भी बड़ी धूम धाम से दिवाली का उत्सव मानते थे।

12. ऑर्थोडॉक्स भारतीय ईसाई भी आज अपने गिरिजाघरों में रौशनी करते है।

« back

Add a new comment

Manifo.com - free business website