“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

विष्णु जी के मंत्र (Lord Vishnu Mantra )

2016-07-09 11:19:38, comments: 0

भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए


ॐ नमोः नारायणाय. ॐ नमोः भगवते वासुदेवाय ||

Namoh narayanayaya. Namoh bhagavate vasudevaya.

***********************************************************************
दरिद्रता से मुक्ति पाने के लिए भगवान विष्णु के इस मंत्र का जाप करना चाहिए।


ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि।
ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।।

Bhurida bhuri dehino, ma dabhram bhurya bhar. Bhuri ghedindra ditsasi.
Bhurida tyasi shruta: Purutra sura vrtrahan. Aa no bhajasva radhasi.

**********************************************************************************
घर में सुख-संपत्ति लाने के लिए विष्णु जी के इस मंत्र का जाप करना चाहिए।

शांता कारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम।
विश्वधारंगनसदृशम्मेघवर्णं शुभांगम।
लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्याननगमयम।
वन्दे विष्णुम्भवभयहरं सर्व्वलोकैकनाथम।।

Santa karama bhujanga Sayanama padma nabham suresama.
Visvadharanganasadrsam'meghavarnam Subhangama
Laksmi kantam kamala nayanama yogibhirdhyananagamayama.
Vande visnumbhavabhayaharam sarvvalokaikanathama

************************************************************************
अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए भगवान विष्णु को इस मंत्र द्वारा प्रसन्न करना चाहिए।

श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे।
हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।

Shri krishan govinda hare murare
He natha narayana vasudevaya.

ॐ ह्रीं कार्तविर्यार्जुनो नाम राजा बाहु सहस्त्रवान।
यस्य स्मरेण मात्रेण ह्रतं नष्टं च लभ्यते।।

Om hrim kartaviryarjuno nama raja bahu sahastravana.
Yasya smarena matrena hratam nastam ca labhyate.

********************************************************************
घर की परेशानी को दूर करने और खुशी के लिए विष्णु जी के इन मंत्रों का जाप करना चाहिए।

ऊँ नारायणाय विद्महे।
वासुदेवाय धीमहि।
तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।

Om narayanaya vidmahe
Vasudevaya dhemahi
Tanno vishnu prachodayat.

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,
त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव,
त्वमेव विद्या, द्रविणं त्वमेव,
त्वमेव सर्वं ममः देवदेवा।।

Tvameva mata ch pita tvameva
tvameva bandhu ch sakha tvameva
tvameva vidya, dravinam tvameva
tvameva sarvam mama devdeva.

Categories entry: Mantra, Mantra
« back

Add a new comment

Manifo.com - free business website