“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

भारत के दस महान गुरु, इनसे शिक्षा लेने आते थे देव और दानव।

2017-09-14 16:43:41, comments: 0

 

*बंदउँ गुरु पद कंज कृपा सिंधु नररूप हरि।
महामोह तम पुंज जासु बचन रबि कर निकर॥

मैं उन गुरु महाराज के चरणकमल की वंदना करता हूँ, जो कृपा के समुद्र और नर रूप में श्री हरि ही हैं और जिनके वचन महामोह रूपी घने अन्धकार का नाश करने के लिए सूर्य किरणों के समूह हैं॥

आइए, जानते हैं भारत के उन दस महान गुरुओं के बारे में जिनके बारे में मान्‍यता है कि स्‍वयं देवता और दैत्‍य इन गुरुओं के पास समय-समय पर शिक्षा ग्रहण करने के लिए आते रहे हैं।

1. महर्षि वेदव्यास अषाढ़ पूर्णिमा के दिन ही महर्षि वेदव्‍यास का जन्‍म हुआ था। यही कारण है कि इस दिन को महर्षि वेदव्‍यास को समर्पित करते हुए व्‍यास जयंती या गुरु पूर्णिमा के रूप में भी सनातनधर्मी पूरी आस्‍था के साथ मनाते हैं। प्राचीन भारतीय ग्रंथों के अनुसार महर्षि वेदव्‍यास स्‍वयं भगवान विष्‍णु के ही अवतार थे। महर्षि का पूरा नाम कृष्‍णद्वैपायन व्‍यास था। इनके पिता महर्षि पराशर तथा माता सत्‍यवती थी।

लोक आस्‍था है कि महर्षि वेदव्‍यास ने ही वेदों, 18 पुराणों और दुनिया के सबसे बड़े महाकाव्‍य महाभारत की रचना की थी। महर्षि के शिष्‍यों में ऋषि जैमिन, वैशम्पायन, मुनि सुमन्तु, रोमहर्षण आदि शामिल थे।

2. महर्षि वाल्‍मीकि  महर्षि वाल्‍मीकि को आदिकवि कहा गया है। भारत के सबसे प्राचीन काव्‍य कहे जाने वाले रामायण की रचना महर्षि वाल्‍मीकि ने ही की थी। मान्‍यता है कि वाल्‍मीकि पूर्व जन्‍म में रत्‍नाकर नाम के खूंखार डाकू थे जिन्‍हें देवर्षि नारद ने सत्‍कर्मों की सीख दी। डाकू रत्‍नाकर से साधक बने और अगले जन्‍म में वरुण देव के पुत्र रूप में जन्‍में वाल्‍मीकि ने कठोर तप किया तथा महर्षि के पद पर सुशोभित हुए।

महर्षि वाल्‍मीकि विभिन्‍न अस्‍त्र-शस्‍त्रों के आविष्‍कारक माने जाते हैं। इनके शिष्‍यों में अयोध्‍या के राजा श्रीराम और सीता के पुत्र लव तथा कुश का नाम सबसे ऊपर लिया जाता है। इनकी शिक्षा और दीक्षा का ही नतीजा रहा कि श्रीराम के दोनों कुमारों ने अस्‍त्र-शस्‍त्र संचालन की ऐसी विद्या प्राप्‍त कर ली थी जिससे उन्‍होंने एक युद्ध में ना सिर्फ महाबलि हनुमान को बंधक बना लिया था बल्‍कि अयोध्‍या की सारी सेना भी इन दो कुमारों के सामने बौनी साबित हुई थी।

3. परशुराम परशुराम की गिनती प्राचीन भारत के महान योद्धा और गुरुओं में होती है। जन्‍म से ब्राह्मण किंतु स्‍वभाव से क्षत्रिय परशुराम ने अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए हैहय वंश के क्षत्रिय राजाओं का संहार किया था। प्राचीन ग्रंथों के अनुसार परशुराम भगवान विष्‍णु के अंशावतार थे। इनके पिता का नाम ऋषि जमदग्‍नि तथा माता रेणुका थीं।

परशुराम के शिष्‍यों में भीष्‍म, द्रोणाचार्य व कर्ण जैसे महान विद्वानों और शूरवीरों का नाम लिया जाता है। त्रेतायुग में जहां इन्‍होंने श्रीराम का कई जगहों पर समर्थन किया वहीं द्वापर युग में भी परशुराम ने भगवान कृष्‍ण को अपना समर्थन दिया।

एक पौराणिक कथा के अनुसार कर्ण ने खुद को सूतपुत्र बताकर परशुराम से अस्‍त्र-शस्‍त्र की शिक्षा ली लेकिन उसके क्षत्रिय होने की जानकारी मिलते ही परशुराम ने उसे शाप दिया कि जब कर्ण को अपने विद्या की सबसे ज्‍यादा जरूरत पड़ेगी उस वक्‍त ये विद्याएं उसका साथ छोड़ देंगी।

4. गुरु द्रोणाचार्य द्रोणाचार्य की गिनती महान धनुर्धरों में होती है। धृतराष्‍ट्र और गांधारी के 100 पुत्र तथा पांडु के पांच पुत्रों को इन्‍होंने ही शिक्षा-दीक्षा दी थी। महाभारत के अनुसार गुरुद्रोण का जन्‍म एक द्रोणी (पात्र) में हुआ था तथा इनके पिता महर्षि भारद्वाज थे।

महाभारत के ही अनुसार गुरु द्रोण देवगुरु बृहस्‍पति के अंशावतार थे। दुर्योधन, दु:शासन, अर्जुन, भीम, युधिष्‍ठिर आदि इनके प्रमुख शिष्‍यों में शामिल थे। हालांकि, अर्जुन द्वारा एक मगरमच्‍छ से गुरु की रक्षा करने के कारण द्रोणाचार्य सबसे ज्‍यादा स्‍नेह अर्जुन से ही रखते थे।

अर्जुन को ही गुरु द्रोण ने दुनिया का सर्वश्रेष्‍ठ धनुर्धर होने का वरदान भी दिया था। कहते हैं इसी वरदान की रक्षा के लिए द्रोण ने श्रेष्‍ठ धनुर्धर एकलव्‍य से उसका अंगूठा गुरु दक्षिणा में मांग लिया था। महाभारत युद्ध में गुरु द्रोण राजसत्‍ता के प्रति वचनबद्ध होने के कारण कौरवों की ओर से युद्धभूमि में उतरे यहां पांडवों के पक्ष से धृष्‍टद्युम्‍न ने छल से गुरु द्रोण का सिर काट दिया।

5. ब्रह्मर्षि विश्वामित्र सनातन धर्म के महान ग्रंथों में हमें ब्रह्मर्षि विश्‍वामित्र की सबसे ज्‍यादा चर्चा मिलती हैं। विश्‍वामित्र जन्‍म से क्षत्रीय थे लेकिन घोर तप के कारण ही स्‍वयं भगवान ब्रह्मा ने उन्‍हें ब्रह्मर्षि की उपाधि से सुशोभित किया।

त्रेतायुग में ब्रह्मषि विश्‍वामित्र ने कुछ काल के लिए ही सही लेकिन अयोध्‍या के राजकुमार श्रीराम और उनके भाई लक्ष्‍मण को अपने साथ रखा और उन्‍हें कई गूढ़ विद्याओं से परिचित कराया। ब्रह्मर्षि विश्‍वामित्र ने श्रीराम और लक्ष्‍मण को कई अस्‍त्र-शस्‍त्रों का ज्ञान दिया तथा अपने द्वारा अनुसंधान किये गये दिव्‍यास्‍त्रों को भी दोनों भाइयों को प्रदान किया।

एक क्षत्रिय राजा से ऋषि बने विश्‍वामित्र, महान भृगु ऋषि के वंशज थे। यह भी कहा जाता है कि विश्‍वामित्र ने एक बार देवताओं से रुष्‍ट होकर अपनी अलग सृष्‍टि की रचना शुरू कर दी थी।

6. गुरु सांदीपनि महर्षि सांदीपनि भगवान श्रीकृष्ण के गुरु थे। श्रीकृष्ण व बलराम इनसे शिक्षा प्राप्त करने मथुरा से उज्जयिनी (वर्तमान उज्जैन) आए थे। महर्षि सांदीपनि ने ही भगवान श्रीकृष्ण को 64 कलाओं की शिक्षा दी थी। कहते हैं कि भगवान श्रीकृष्ण ने ये कलाएं मात्र 64 दिन में ही सीख ली थीं। मध्य प्रदेश के उज्जैन शहर में आज भी गुरु सांदीपनि का आश्रम स्थित है।

गुरु सांदीपनि के गुरुकुल में कई महान राजाओं के पुत्र पढ़ते थे। श्रीकृष्ण ने 18 वर्ष की आयु में  उज्‍जयिनी आश्रम में रहकर शिक्षा ग्रहण किया था। इससे ये बात तो साबित होती है कि भगवान विष्‍णु के पूर्णावतार कहे जाने वाले श्रीकृष्‍ण को भी गुरु की आवश्‍यक्‍ता पड़ी जिन्‍होंने उन्‍हें विश्‍व के कई गूढ़ ज्ञानों से परिचित कराया।

पुराणों में वर्णन मिलता है कि सांदीपनी ऋषि को गुरु दक्षिणा देने के लिए श्रीकृष्‍ण ने यमपुरी की यात्रा की और वहां से सांदीपनी के पुत्र को वापस धरती पर ले आए।

7. देवगुरु बृहस्पति गुरु बृहस्‍पति देवताओं के भी गुरू हैं। महाभारत के आदि पर्व के अनुसार बृहस्पति महर्षि अंगिरा के पुत्र थे। देवगुरु बृहस्पति रक्षोघ्र मंत्रों का प्रयोग कर देवताओं का पोषण एवं रक्षण करते हैं तथा दैत्यों से देवताओं की रक्षा करते हैं।

8. दैत्यगुरु शुक्राचार्य दैत्‍यों के गुरु शुक्राचार्य का वास्‍तविक नाम शुक्र उशनस है। शुक्राचार्य हिरण्‍यकशिपु की पुत्री दिव्या के पुत्र थे। कहते हैं कि भगवान शिव ने ही इन्‍हें मृत संजीवनी विद्या का ज्ञान दिया था, जिसके बल पर यह मृत दैत्यों को पुन: जीवित कर सकते थे। आपको जानकर आश्‍चर्य होगा कि गुरु शुक्राचार्य के शिष्‍यों में जहां सर्वाधिक संख्‍या दैत्‍यों की होती थी वहीं इन्‍होंने गुरुधर्म का पालन करते हुए देवपुत्रों को भी शिक्षाएं प्रदान की। खुद देवगुरू बृहस्‍पति के पुत्र कच ने भी शुक्राचार्य से ही शिक्षा-दीक्षा ग्रहण की थी। साथ ही भयानक दैत्‍यों से अपने देवपुत्र शिष्‍य की रक्षा भी की थी।  

8. गुरु वशिष्ठ गुरु वशिष्ठ सूर्यवंश के कुलगुरु थे। इन्हीं के परामर्श पर महाराज दशरथ ने पुत्रेष्‍टि यज्ञ किया था, जिसके फलस्वरूप श्रीराम, लक्ष्मण, भरत व शत्रुघ्न का जन्म हुआ। श्रीराम सहित चारो भाइयों ने वेद-वेदांगों की शिक्षा गुरु वशिष्ठ से ही प्राप्त की थी। वहीं वनवास के लौटने के बाद श्रीराम का राज्याभिषेक भी इन्‍हीं के द्वारा हुआ था। गुरु वशिष्‍ठ ने ही वशिष्ठ पुराण, वशिष्ठ श्राद्धकल्प, वशिष्ठ शिक्षा आदि ग्रंथों की रचना की। गुरु वशिष्‍ठ की गणना सप्‍तऋषियों में भी होती है।

9. आदि शंकराचार्य दक्षिण-भारत के केरल राज्य के कालडी़ ग्राम में एक ब्राह्मण परिवार शिवगुरु दम्पति के घर आदि शंकराचार्य का जन्म हुआ। असाधारण प्रतिभा के धनी आद्य जगद्‍गुरु शंकराचार्य ने सात वर्ष की उम्र में ही वेदों के अध्ययन किया और पारंगतता हासिल की। छोटी सी उम्र में ही इन्‍होंने अपनी माता से संन्यास लेने की अनुमति प्राप्‍त की और गुरु की खोज में निकल पड़े। सनातन धर्म में मान्‍यता है कि आदि शंकराचार्य भगवान शंकर के ही अवतार थे।

आदि शंकराचार्य ने ही भारत के चार कोनों पर चार पीठों की स्‍थापना की। इनमें ‘श्रंगेरी' कर्नाटक (दक्षिण) में, ‘द्वारका' गुजरात (पश्चिम) में,  'पुरी' उड़ीसा (पूर्व) में और ज्योर्तिमठ (जोशी मठ) उत्तराखंड (उत्तर) में आज भी मौजूद है। आद्य शंकराचार्य ने मात्र 32 वर्ष की अल्पायु में ही पवित्र केदारनाथ धाम में इहलोक का त्याग दिया।

10. गुरु कृपाचार्य गौतम ऋषि के पौत्र कृपाचार्य की गणना महाभारत कालीन 18 महायोद्धाओं में होती है। इस भीषण युद्ध में गुरु कृपाचार्य भी जीवित बच गये। कृपाचार्य को चिरंजीवी होने का वरदान भी प्राप्‍त था।

भीष्‍म पितामह ने कृपाचार्य को पांडवों और कौरवों को धनुर्विद्या का ज्ञान दिया था। महाभारत का युद्ध समाप्‍त होने के बाद गुरु कृपाचार्य ने पांडव वंश के महा प्रतापी और कलियुग के प्रथम राजा परीक्षित को भी अस्त्रविद्या सिखाई थी।

Categories entry: story / History
« back

Add a new comment

Manifo.com - free business website