“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

Jai Mata Di

जय श्री महाकाल उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर : क्यों खुलता है सिर्फ साल में एक दिन

2017-07-24 18:11:56
हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परंपरा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्र...
read more

जानिए आरती के बाद क्यों बोलते हैं कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्। सदा बसन्तं हृदयारबिन्दे भबं भवानीसहितं नमामि।।

2017-07-24 18:09:56
* किसी भी मंदिर में या हमारे घर में जब भी पूजन कर्म होते हैं तो वहां कुछ मंत्रों का जप अनिवार्य रूप से किया जाता है, सभी देवी-देवताओं के मंत्र अलग-अलग हैं, लेकिन जब भी आरती पूर्ण होती है तो यह मंत्र ...
read more

*ॐ त्र्यंबकम् मंत्र* के 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठ के अनुसार 33 देवताआं के घोतक हैं।

2017-07-23 13:02:11
*ॐ त्र्यंबकम् मंत्र* के 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठ के अनुसार 33 देवताआं के घोतक हैं। उन तैंतीस देवताओं में 8 वसु 11 रुद्र और 12 आदित्यठ 1 प्रजापति तथा 1 षटकार हैं। इन तैंतीस देवताओं की सम्पूर्ण शक्...
read more

विज्ञान भी है फेल यहाँ पर एक ऐसा शिवलिंग जो दिन में तीन बार बदलता है अपना रंग।

2017-07-23 12:59:29
    रोज 3 बार बदलता है शिवलिंग का रंगधौलपुर का यह शिवलिंग दिन में 3 बार अपना रंग बदलता है। शिवलिंग का रंग दिन में लाल, दोपहर को केसरिया और रात को सांवला हो जाता है। ऐसा क्यों होता है इसका ...
read more

ब्रज के सुप्रसिद्ध 12 वनों के नाम

2017-07-23 12:58:29
1. मधुवन, 2. तालवन, 3. कुमुदवन, 4. वहुलावन, 5. कामवन, 6. खदिरवन, 7. वृन्दावन, 8. भद्रवन, 9. भांडीरवन, 10. बेलवन, 11. लोहवन और 12. महावन हैं. इनमें से आरंभ के 7 वन यमुना नदी के पश्चिम में हैं और अन्...
read more

कैसे हुई कांवड़ परंपरा की शुरुआत

2017-07-23 12:55:04
ॐ नमः शिवाय...कांवड़_लाने_की_परंपराआपने #भगवान_शिवजी के परम प्रिय मास श्रावण में भक्तो को अपने कंधे पर कांवड़ में जल लाते देखा होगा | यह पैदल कोसो चल कर पवित्र जल लाते है और फिर इस जल से शिवजी का अभिष...
read more

शिव जी को भस्‍म क्‍यों चढ़ाते हैं, यह है असली वजह

2017-07-23 12:53:00
इस संबंध में धार्मिक मान्यता यह है कि शिव को मृत्यु का स्वामी माना गया है और #शिवजी शव के जलने के बाद बची भस्म को अपने शरीर पर धारण करते हैं। इस प्रकार शिवजी भस्म लगाकर हमें यह संदेश देते हैं कि यह ...
read more

रावण के तीन गुणकारी मंत्र

2017-07-23 12:50:43
श्री राम और रावण के बीच हुए अंतिम युद्ध के बाद रावण जब युद्ध भूमि में मरणशैय्या पर पड़ा था तब समस्त वेदों के ज्ञाता, महापंडित रावण ने लक्ष्मण को राजनीति और शक्ति का ज्ञान दिया था।रावण ने लक्ष्मण को बता...
read more

पांडवों के स्वर्गारोहण की एक रोचक एवम ज्ञानवर्धक कथा।

2017-07-23 12:45:49
  श्री कृष्ण सहित पुरे यदुवंशियों के मारे जाने से दुखी पांडव भी परलोक जाने का निश्चय करते है और इस क्रम में पांचो पांडव और द्रोपदी स्वर्ग पहुँचते है। जहाँ द्रोपदी, भीम, अर्जुन, सहदेव और नकुल शरी...
read more

कैसे हुई बिल्व पत्र की उत्पत्ति?और महत्व :--

2017-07-23 12:42:29
 कैसे हुई बिल्व पत्र की उत्पत्ति?और महत्व :-- ये तो आप सभी जानते हैं कि बिल्वपत्र शिवजी को अत्यंत प्रिय हैं। सिर्फ बिलपत्र चढ़ाने से ही शिव जी पूर्ण पूजन का फल साधक को दे देते हैं।आखिर क्यों है ब...
read more

« Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next »
Manifo.com - free business website