“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

Jai Mata Di

पंच केदार (Panch Kedar)

2016-06-24 12:04:14
पंच केदार भगवान शिव से सम्बन्धित पाँच प्रसिद्ध मन्दिरों को कहा जाता है। इन मन्दिरों में भगवान शिव के विभिन्न अंगों की पूजा की जाती है।उत्तराखंड के गढ़वाल ...
read more

यहां भगवान शिव ने खोली थी तीसरी आंख, आज भी मौजूद है निशानी

2016-06-22 12:13:16
उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में भगवान शिव से जुड़ी एक बहुत ही खास जगह है, जिसे कामेश्वर धाम के नाम से जाना जाता है। मान्यताओं के अनुसार, यह शिवपुराण मे वर्णित वही जगह है जहां भगवान शिव ने भगव...
read more

माता पार्वती ने स्वयं लगाया था इस वृक्ष को, बेताल यहीं रहता था

2016-06-19 14:33:39
उज्जैन केवल सिंहस्थ्य या महाकाल के लिए बस नहीं जाना जाता है। बल्कि यहां और भी ऐसी चीजें मौजूद हैं जो लोगों की आस्था व विश्वास का प्रतीक हैं। एक ऐसे ही आस्था के प्रतीक का नाम सिद्धवट वृक्ष है। जिसे स्व...
read more

गंगा दशहरा | Ganga Dashahara | Ganga Dussehra

2016-06-14 08:41:44
प्रतिवर्ष ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी को गंगा दशहरा मनाया जाता है. स्कंदपुराण के अनुसार गंगा दशहरे के दिन व्यक्ति को किसी भी पवित्र नदी पर जाकर स्नान, ध्यान तथा दान करना चाहिए. इससे वह अपने सभ...
read more

जानिए क्यों भगवान श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र से जला कर भस्म कर दिया था काशी को ?

2016-06-14 06:26:41
मगध का राजा जरासंध बहुत शक्तिशाली और क्रूर था। उसके पास अनगिनत सैनिक और दिव्य अस्त्र-शस्त्र थे। यही कारण था कि आस-पास के सभी राजा उसके प्रति मित्रता का भाव रखते थे। जरासंध की अस्ति और प्रस्ति नामक दो ...
read more

क्यों पिया श्री कृष्ण ने राधा के पैरों का चरणामृत

2016-06-14 06:24:50
चरणामृत से सम्बन्धित एक पौराणिक गाथा काफी प्रसिद्ध है जो हमें श्रीकृष्ण एवं राधाजी के अटूट प्रेम की याद दिलाती है। कहते हैं कि एक बार नंदलाल काफी बीमार पड़ गए। कोई दवा या जड़ी-बूटी उन पर बेअसर साबित हो ...
read more

जब अश्वत्थामा ने मांग लिया कृष्ण का सुदर्शन चक्र

2016-06-14 06:20:43
एक बार पांडव और कौरवों के गुरु द्रोणाचार्य का पुत्र अश्वत्थामा द्वारिका पहुंच गया। भगवान कृष्ण ने उसका बहुत स्वागत किया और उसे अतिथि के रूप में अपने महल में ठहराया। कुछ दिन वहां रहने के बाद एक दिन अश्...
read more

कृष्ण ने द्वारिका को राजधानी के लिए क्यों चुना?

2016-06-10 10:34:05
मथुरा में कंस वध के बाद भगवान कृष्ण को वसुदेव और देवकी ने शिक्षा ग्रहण करने के लिए अवंतिका नगरी (वर्तमान में मध्यप्रदेश के उज्जैन) में गुरु सांदीपनि के पास भेजा। बड़े भाई बलराम के साथ श्रीकृष्ण पढ़ने ...
read more

इसलिए गोवर्धन पर्वत उठाया कृष्ण ने

2016-06-10 10:33:30
महाभारत काल में वर्षा ऋतु के बाद गांवों में देवराज इंद्र का आभार प्रकट करने के लिए यज्ञ किए जाते थे। इंद्र मेघों के देवता हैं और उन्हीं के आदेश से मेघ यानी बादल धरती पर पानी बरसाते हैं। हमेशा मेघ पानी...
read more

इसलिए बढ़ गई थी द्रौपदी की साड़ी

2016-06-10 10:32:37
द्रौपदी का चीरहरण होते समय भगवान ने उसकी सहायता की और उसकी साड़ी को इतना बढ़ा दिया कि दु:शासन उतार न सका। इसके पीछे क्या कारण है कि कृष्ण ने द्रौपदी की सहायता की। महाभारत में इस बात का जवाब है। बात उ...
read more

« Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next »
Manifo.com - free business website